Sunday, March 3, 2024
Newspaper and Magzine


सहकारी शुगर मिल के निर्माण कार्य में बरती जा रही देरी का आरोप लगाते हुए भारतीय किसान यूनियन ने मिल के प्रबंध निदेशक को ज्ञापन सौंपा।

By LALIT SHARMA , in Business , at December 15, 2021 Tags: , , , ,

BOL PANIPAT , 15 दिसंबर। जनपद के डाहर गांव में लगाई जा रही सहकारी शुगर मिल के निर्माण कार्य में बरती जा रही देरी का आरोप लगाते हुए भारतीय किसान यूनियन के तत्वाधान में किसानों ने एकत्रित होकर जोरदार प्रदर्शन करते हुए मिल के प्रबंध निदेशक को ज्ञापन सौंपा। इससे पूर्व मिल परिसर में किसान पंचायत का आयोजन किया गया। किसान पंचायत की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष सोनू शहरमालपूरिया ने की।

इस दौरान किसानों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन भी किया। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष रतनमान ने प्रमुख तौर पर शिरकत करते हुए डाहर शुगर मिल के निर्माण कार्य में बरती जा रही ढ़ील का आरोप लगाते हुए कहा कि पानीपत के हजारों गन्ना उत्पादक किसानों के सामने करीब 35 लाख किवंटल गन्ने की सप्लाई न कर पाने का संकट खड़ा हो गया है।

जिसको लेकर किसानों को कुछ भी समझ नही आ रहा है। भाकियू के तत्वाधान में किसानों ने एकत्रित होकर जिलाध्यक्ष सोनू शहरमालपूरिया की अगुवाई में मिल प्रबंध निदेशक नवदीप सिंह नैन को ज्ञापन सौंप कर जल्द से जल्द से डाहर शुगर मिल का निर्माण कार्य पूरा करके आने वाली 31 जनवरी तक चलाए जाने की मांग की है। नही तो 31 जनवरी के उपरांत जोरदार आंदोलन शुरू किया जाएगा।

किसानों को संबोध्रित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष रतनमान ने कहा कि कई वर्ष पूर्व पानीपत व करनाल की शुगर मिलों का एक साथ निर्माण करवाए जाने को लेकर आंदोलन किया गया था। क्योंकि दोनों जिलों की शुगर मिल कंडम हो गई थी। पानीपत शुगर मिल का निर्माण कार्य करनाल की मिल से करीब 6 महिने पहले शुरू हुआ था। लेकिन करनाल मिल का निर्माण कार्य तय समय अवधि के दौरान पूरा हो गया।

पानीपत मिल का निर्माण कार्य आज भी लटका हुआ है। उन्होंने कहा कि पानीपत के किसानों ने नई मिल बन जाने की इस आस में पिछले साल गन्ने की जोरदार बिजाई की थी। जिसके चलते पानीपत जिला में करीब 70 लाख किवंटल गन्ना होंने की उम्मीद है। पुरानी मिल बामुश्किल करीब 30 लाख किवंटल की पिराई कर पाएगी। करीब 5 लाख किवंटल गन्ना बीज व जूस के लिए प्रयोग हो सकता है। ऐसे में किसान 35 लाख किवंटल गन्ना कहा लेकर जाएगें। समस्या गंभीर होती दिखाई दे रही है।

ज्ञापन लेने के उपरांत मिल के प्रबंध निदेशक नवदीप सिंह नैन ने किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि नई मिल को आनेवाली 15 फरवरी के आसपास चला दिया जाएगा। उम्मीद है कि सारे गन्ने की पिराई हो जाएगी। इस मौके पर भाकियू के चीफ आर्गेनाईजर प्रताप सिंह माजरा, प्रदेश संगठन मंत्री श्याम सिंह मान, जगबीर सिंह, राम निवास, सुनेहरा खर्ब, राजेंद्र सिंह छोक्कर, बिजेंद्र बांगड़, कर्मबीर सिंह सहित काफी संख्या में किसान मौजूद थे।

Comments