Saturday, June 15, 2024
Newspaper and Magzine


साइबर अपराधियों पर शिकंजा, जिले की साईबर डिटेक्टिव विंग ने 2माह के दौरान 8 मुकदमों में 9 लाख 77 हजार 693 रूपए वापस ट्रांसफर करवाए।

By LALIT SHARMA , in Crime in Panipat , at December 30, 2021 Tags: , , , , ,

– 7 मुकदमों में 8 लाख 60 हजार 15 रूपए फ्रीज करवाए।

BOL PANIPAT : 30 दिसम्बर 2021, पुलिस अधीक्षक श्री शशांक कुमार सावन ने जानकारी देते हुए बताया की हाईटेक तकनीक के इस दौर में साइबर अपराधी ठगी के नए-नए हथकंडे अपनाकर लोगों के साथ ठगी की वारदातों को अंजाम दे खातों से रूपये साफ कर रहे है। साइबर अपराधी जिन खातों में पैसे ट्रांसफर करते है ये खाते ज्यादातर फर्जी आईडी पर खुलवाए हुए मिलते है।

साइबर अपराधियों पर नकेल कसने के लिए जिला में पुलिस की साईबर डिटेक्टिव विंग गठीत की गई है। साइबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने पिछले दो माह के दौरान साइबर ठगी की विभिन्न वारदातों पर त्वरित कार्रवाही करते हुए 8 मुकदमों में पिड़ितों के खातों में 9लाख 77हजार 693रूपए वापस ट्रांसफर व 7 मुकदमों में 8लाख 60हजार 15 रूपए फ्रीज करवाए गए। इससे पहले भी टीम ने साइबर धोखाधड़ी के करीब 20 मुकदमों में 13लाख 90हजार 889रूपए वापस ट्रांसफर व करीब 15 मुकदमों में 5लाख 62हजार रूपए फ्रीज करवाए गए थे। जल्द ही प्रक्रिया पूर्ण होने पर फ्रीज करवाई गई राशि को पिड़ितों के खातें में आ जाएगी।
उन्होने बताया की जिन खातों को फ्रिज करवाया गया है ये वेस्ट बंगाल, यूपी, बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्रा व हरियाणा में साइबर अपराधियों ने विभिन्न बैकों में फर्जी आईडी से खुलवाए है। साइबर अपराधी ठगी की वारदात को अंजाम दे इन खातों में रकम ट्रांसफर कर तुरंत निकाल लेते है।

उन्होने बताया की साइबर अपराधो बारे जागरूक करने के लिए पुलिस द्वारा समय-समय पर साइबर अपराध से बचने के तरीकों बारे जनहित में एडवाइजरी जारी की जा रही। जागरूक व सर्तक रहकर इससे बचा जा सकता है।

साइबर ठगी कि निम्न वारदातें सुलझी :-

  1. साइबर ठगों ने फोज में तैनात पुठर निवासी जसमेर से धोखाधड़ी कर उसके खाते से 6लाख 44 हजार 947 रूपये निकालने की वारदात को अंजाम दिया । जसमेर ने थाना इसराना पुलिस को दी शिकायत में बताया था की उसने हवाई जहाज की टिकट की तारिख बढ़वाने के लिए गूगल से नंबर सर्च कर फोन किया तो सामने वाले ने जवाब दिया की कुछ देर बाद उसके पास फोन आएगा और आपको पूरी जानकारी मिल जाएगी। कुछ ही देर बाद फोन आया और सामने वाले ने प्ले स्टोर से एनीडेस्क रिमोट कंट्रोल डाउनलोड करने के लिए बोला और कहा 354 रूपये पे करने होगे आपकी टिकट की तारिख बढ जाएगी। आरोपित ने बातो मे उलझाकर उससे फोन में साफ्टवेयर डाउनलोड करवा दिया। जसबीर ने एसबीआई योनो ऐप ओपन कर आईडी पासवर्ड डाला तो उसके खाते से 5 मिनट के दौरान ही 6लाख 44 हजार 947 रूपये कट गए। साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने मामले में तत्परता से कार्रवाही करते हुए संबधित बैके के अधिकारियों के साथ पत्राचार के माध्यम से संम्पर्क कर ठगों के खाते से पिड़ित जसमेर के खाते में ठगी गई पूरी राशि ट्रांसफर करवाई।
  2. साइबर ठगो ने पानीपत के अंसल सिटी निवासी सुरेश के अकांउट से 56हजार रूपये निकालने की वारदात को अंजाम दिया। सुरेश ने थाना शहर पुलिस को दी शिकायत में बताया था की उसका सैन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया में अकाउंट है। उसके अकांउट के एटीएम से 20 हजार रूपये कटने का मैसेज आया उसने बैंक के हेल्प लाइन नंबर पर काल किया तो उसके खाते से 20हजार, 10हजार व 5हजार रूपए और कटने के मैसेज आ गए। साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने कार्रवाही करते हुए पिड़ित के खाते में पैसे ट्रांसफर करवाए।
  3. साइबर ठगों ने माडल टाउन निवासी इमरान को फोन कर परिचित बनकर विश्वास में लिया और फोन पे के माध्यम से 74999रूपए ठगने की वारदात को अंजाम दिया। थाना माडल टाउन में इमरान की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने कार्रवाही करते हुए पिड़ित के खाते में 60हजार रूपये ट्रांसफर करवाए।
  4. साइबर ठगों ने डीएवी स्कूल थर्मल में तैनात अध्यापक भूपेंद्र निवासी गन्नौर के खाते से एटीएम के माध्यम से 20 हजार रूपये निकालने की वारदात को अजाम दिया। भूपेंद्र ने थाना मतलोडा पुलिस को दी शिकायत में बताया था की उसका एटीएम कार्ड उसके पास था। एटीएम के माध्यम से 10-10 हजार कटने के दो मैसेज आए बाद में उसने टोल फ्री नंबर पर काल कर कार्ड को ब्लाक करवा दिया। ठगों ने धोखाधड़ी कर उसके खाते से 20 हजार रूपये निकाल लिए। साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने कार्रवाही करते हुए पिड़ित के खाते में 20हजार रूपये ट्रांसफर करवाए।
  5. साइबर ठगों ने समालखा के वार्ड-16 निवासी ललीत के खाते से 49997 रूपये निकालने की वारदात को अंजाम दिया। साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने त्वरित कार्रवाही करते हुए पिड़ित के खाते में 19999 रूपये ट्रांसफर करवाए।
  6. साइबर ठगो ने जिला जेल में उप-अधीक्षक जेल के पद पर तैनात जोगिंद्र देशवाल के खाते से 43 हजार रूपये ठगने की वारदात को अंजाम दिया। जोगिंद्र देशवाल ने थाना औधोगिक सैक्टर-29 पुलिस को दी शिकायत में बताया था की उसने 2 नवम्बर को साथी द्वारा पेटीएम पर भेजी गई राशि ना मिलने पर गूगल से बैक का टोल फ्री नंबर निकाल कर फोन किया तो सामने वाले ने एक नंबर देकर उस पर संम्पर्क करने बारे कहा। दिए गए नंबर पर संपर्क किया तो उन्होने एनी डेस्क एप डाउनलोड करने बारे कहा और उससे डेबिट कार्ड बारे पूरी पूछताछ की। बाइक दोपहर उसके खाते से अलग-अलग तीन ट्रांजेक्शन से 43 हजार रूपये कट गए। साईबर डिटेक्टिव विंग की टीम ने त्वरित कार्रवाही करते हुए पिड़ित के खाते में 14247 रूपये ट्रांसफर करवाए।

Comments